Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana 2022: दलित आदिवासी उद्यम प्रोत्साहन योजना

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा राज्य के दलित एवं आदिवासी नागरिको को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए राजस्थान दलित आदिवासी उद्यम प्रोत्साहन योजना को शुरू किया गया है जिसके माध्यम से दलित एवं आदिवासी से सम्बन्धी नागरिको को खुद का रोजगार करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष 2022-23 के बजट पेश करते हुए इस योजना की घोषणा की गयी थी। इस योजना के ज़रिये वंचित वर्ग के लोगो को खुद का रोजगार करने के लिए ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी। साथ में रीको औद्योगिक क्षेत्रों में उद्यमियों को जमीन आल्लोट की देय राशि की किस्तों के ब्याज पर पूरी तरह से रियायत और जमीन रूपांतरण राशी में 75% रियायत, जमीन खरीद, लीज व लोन के पेपर्स पर स्टांप ड्यूटी मे 100% की छूट उपलब्ध कराई जाएगी। दोस्तों आइए जानते है Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana से सम्बन्धी सभी महत्पूर्ण जानकारियां।

Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana 2022

राजस्थान सरकार द्वारा Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana का आरम्भ किया गया है इस योजना के ज़रिये राज्य के दलित एवं आदिवासी परिवार के नागरिको को खुद का रोजगार करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। जिसके अंतर्गत उन्हें ट्रेनिंग प्रदान करने के लिए इनक्यूबेशन कम ट्रेनिंग सेंटर स्थापित किए जाएंगे। इस ट्रेनिंग सेंटर को स्थापित करने के लिए 100 करोड़ रुपए का बजट तय किया गया है स्थापित किए जाने वाले ट्रेनिंग सेंटर का संचालन दलित इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (DICCI) और भारतीय परिसंघ के द्वारा किया जाएगा। इस योजना के लिए सेलेस्क्ट किए गए उद्योग में रीको/राजस्थान वेंचर कैपिटल फंड की 10% (मैक्सिमम 25 लाख रुपए प्रति यूनिट) की पार्टनरशिप होगी।

दलित और आदिवासी युवाओ को आल्लोट की जाने वाली ज़मीन की सिमा को बढ़ा कर  2000 वर्गमीटर से बढ़ाकर 4000 वर्गमीट किया जाएगा। साथ ही युवाओ को 1% बियाज़ अनुदान भी प्रदान किया जएगा। राज्य सरकार द्वारा स्थापित इकाइयों के राज्य गुडस एंड सर्विस टैक्स का 7 सालो के लिए 100% पुनर्भरण किया जाएगा। इन पांच वर्षो में आने वाला मार्जिन मनी, सीजीएसटी एवं ब्याज अनुदान पर 525 करोड रुपए का खर्च राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा

image-91-edited

Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana Hightlight

योजना का नाम Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana
आरंभ की जा रही है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा
घोषित दिनांक 23 फरवरी 2022
लाभार्थी दलित और आदिवासी वर्ग के लोग
उद्देश्य वंचित वर्गों को स्वरोजगार से जोड़ना
ऑफिसियल वेबसाइट अभी लांच नहीं की गई

राजस्थान दलित आदिवासी उद्यम प्रोत्साहन योजना का मुख्य उद्देश्य

राज्य सरकार द्वारा राजस्थान दलित आदिवासी उद्यम प्रोत्साहन योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य दलित एवं आदिवासी युवाओ को रोजगार से जोड़ना है रजस्थान सरकार द्वारा दलित एवं आदिवासी युवाओ को अपना रोजगार स्थापित करने के लिए पूरा सहयोग प्रदान करेगी। जिससे राज्य के युवा बिना किसी परेशानी का सामने करे बिना सफलतापूर्वक अपना रोजगार स्थापित कर सके। Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana के माध्यम से राज्य में उद्योग क्षेत्र में वृद्धि होगी जिससे रोजगार के अवसर उत्पन होंगे। साथ ही बेरोजगारी दर में गिरावट होगी।

दलित आदिवासी उद्यम प्रोत्साहन योजना गुण [Benefits]

  • दलित एवं आदिवासी युवाओ के लिए ट्रेनिंग प्रदान करने के लिए इनक्यूबेशन कम ट्रेनिंग सेंटर स्थापित किए जाएंगे। इस ट्रेनिंग सेंटर को स्थापित करने के लिए 100 करोड़ रुपए का बजट तय किया गया है
  • Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana के माध्यम से स्थापित किए जाने वाले ट्रेनिंग सेंटर का संचालन दलित इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (DICCI) और भारतीय परिसंघ के द्वारा किया जाएगा।
  • इस योजना के लिए सेलेस्क्ट किए गए उद्योग में रीको/राजस्थान वेंचर कैपिटल फंड की 10% (मैक्सिमम 25 लाख रुपए प्रति यूनिट) की पार्टनरशिप होगी।
  • दलित और आदिवासी युवाओ को आल्लोट की जाने वाली ज़मीन की सिमा को बढ़ा कर  2000 वर्गमीटर से बढ़ाकर 4000 वर्गमीट किया जाएगा।
  • राज्य सरकार द्वारा स्थापित इकाइयों के राज्य गुडस एंड सर्विस टैक्स का 7 सालो के लिए 100% पुनर्भरण किया जाएगा।
  • मार्जिन मनी 25% और अधिकतम 25 लाख रुपए तक अनुदान दिया जाएगा।
  • युवाओ को औद्योगिक क्षेत्रों में जमीन आल्लोट की देय राशि की किस्तों के ब्याज पर पूरी तरह से रियायत और जमीन रूपांतरण राशी में 75% रियायत, जमीन खरीद, लीज व लोन के पेपर्स पर स्टांप ड्यूटी मे 100% की छूट उपलब्ध कराई जाएगी।
  • राज्य के युवाओ को डॉ भीमराव अंबेडकर राजस्थान दलित आदिवासी उद्यमिता प्रोत्साहन योजना के तहत 1% अपर ब्याज अनुदान भी प्रदान किया जाएगा।

दलित आदिवासी उद्यम प्रोत्साहन योजना लाभ [Benefits]

  • राज्य के केवल दलित एवं आदिवासी नागरिक ही राजस्थान दलित आदिवासी उद्यम प्रोत्साहन योजना का लाभ उठा सकते है।
  • इस योजना का लाभ वंचित वर्गों के युवाओं के साथ औद्योगिक क्षेत्र को भी प्राप्त होगा। जिसके माध्यम से औद्योगिक क्षेत्र में नए- नए उद्यम स्थापित होंगे।
  • Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana के ज़रिये राज्य के दलित एवं आदिवासी वर्ग के युवा भी स्वरोजगार स्थापित करने का लाभ प्राप्त कर सकेंगे।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य में उद्योग क्षेत्र में वृद्धि होगी जिससे रोजगार के अवसर उत्पन होंगे। साथ ही बेरोजगारी दर में गिरावट होगी।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त कर आदिवासी और दलित परिवार के युवा अपने भविष्य के लिए आत्मनिर्भर बन सकेंगे। जिससे उनका भविष्य उज्जवल बन सकेगा।

राजस्थान दलित आदिवासी उद्यम प्रोत्साहन योजना 2022 आवेदन कैसे करे

राजस्थान सरकार द्वारा Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana को शुरू करने का एलान किया गया है जो इच्छुक दलित एवं आदिवासी वर्ग के नागरिक इस योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदन करना चाहते है उन्हें अभी थोड़ा समय इंतज़ार करना होगा। क्योंकि राज्य सरकार द्वारा अभी आवेदन एवं ऑफिसियल वेबसाइट से सम्बन्धी किसी भी तरह की जानकरी  साझा नहीं की गयी है जैसे ही सरकार द्वारा आवेदन एवं ऑफिसियल वेबसाइट से सम्बन्धी जानकरी को साझा किया जाएगा हम आप सभी को इस लेख के माध्यम से जानकारी प्रदान करेंगे। इसलिए आप सभी से अनुरोध है कृपया लेख के साथ अवश्य जुड़े रहे। जिससे योजना से संबंधी अपडेट प्राप्त कर सके।

Conclusion

दोस्तों हमने आप सभी को Rajasthan Dalit Adivasi Udyam Protsahan Yojana से सम्बंदित जानकारी प्रदान की है,अगर अभी भी आपको कसी भी तरह की कोई परेशनी का सामना करना पड़ रहा है। तो आप हमसे कमेंट के ज़रिये से मालूम कर सकते है आपका एक एक कमेंट हमारे लिए बहुत महत्पूर्ण है। हम आपकी समस्या का समाधान करने के लिए निरंतर प्रयास करेंगे धन्यवाद।

Leave a Comment